fbpx

Quotes from bhagavad gita in hindi

quotes from bhagavad gita in hindi

Table of Contents

Bali Cheap Flight Deals Get up to 40% off with Travelup.com Book Now & Save

भगवद गीता, जिसे अक्सर गीता भी कहा जाता है, एक 700 श्लोक वाला हिंदू धर्मग्रंथ है जो भारतीय महाकाव्य महाभारत का हिस्सा है। संस्कृत में लिखा गया, यह हिंदू धर्म का एक पवित्र ग्रंथ है और इसमें राजकुमार अर्जुन और भगवान कृष्ण, जो उनके सारथी के रूप में कार्य करते हैं, के बीच बातचीत शामिल है। यह बातचीत कुरुक्षेत्र युद्ध से ठीक पहले युद्ध के मैदान पर होती है, जहां अर्जुन युद्ध में लड़ने को लेकर संदेह और नैतिक दुविधा से भरा होता है। भगवद गीता गहन दार्शनिक और आध्यात्मिक अवधारणाओं को संबोधित करती है और जीवन, कर्तव्य और आध्यात्मिक प्राप्ति के मार्ग पर मार्गदर्शन प्रदान करती है। quotes from bhagavad gita in hindi

quotes from bhagavad gita in hindi

Quotes from bhagavad gita in hindi

“कर्म करो, फल की इच्छा मत करो।” – भगवद गीता, अध्याय 2, श्लोक 47

“आप अपने कर्मों का हकदार हो, लेकिन कर्मों के फल का नहीं।” – भगवद गीता, अध्याय 2, श्लोक 49

“कर्म और भगवान का नाम एक साथ जपो और अपने कर्मों को समर्पण करो।” – भगवद गीता, अध्याय 9, श्लोक 22

“कर्म से बढ़कर और कुछ नहीं है, इसलिए कर्म में लिपटो।” – भगवद गीता, अध्याय 2, श्लोक 50

“कर्म को समझो और उसे सही दिशा में ले जाओ, फल के बिना।” – भगवद गीता, अध्याय 2, श्लोक 50

“कर्म करो, फल की चिंता मत करो, क्योंकि कर्म का फल स्वभाव से मिलेगा।” – भगवद गीता, अध्याय 2, श्लोक 47

“कर्म में जुटो लेकिन अपने कर्मों का आसरा मत करो।” – भगवद गीता, अध्याय 2, श्लोक 49

“योग के द्वारा आप अपने मन को शांति में रख सकते हैं।” – भगवद गीता, अध्याय 6, श्लोक 5

“विवेकी व्यक्ति अपने आप को सर्वत्र देखता है और दूसरों के दुखों को स्वयं के दुख की तरह मानता है।” – भगवद गीता, अध्याय 6, श्लोक 32

“आपके द्वारा किए गए कर्मों का फल आपके द्वारा नहीं मिलता, वह आपके द्वारा किए गए कर्मों का फल नहीं होता है।” – भगवद गीता, अध्याय 2, श्लोक 47

“विचार करने में विचलित नहीं होना चाहिए, विचार करने में विचलित होना चाहिए।” – भगवद गीता, अध्याय 2, श्लोक 14

“आपको बिना किसी चिंता के अपने कर्म करने की आदत होनी चाहिए।” – भगवद गीता, अध्याय 3, श्लोक 19

“कर्म में जुटो लेकिन फल की आकांक्षा मत करो।” – भगवद गीता, अध्याय 2, श्लोक 47

“जब तक आप कर्म करते हैं, आपको कर्म का फल का अधिकार नहीं होता।” – भगवद गीता, अध्याय 2, श्लोक 47

“कर्म के बिना भी आप अच्छे तरीके से जी सकते हैं, लेकिन बिना कर्म के जीने की सम्भावना नहीं है।” – भगवद गीता, अध्याय 3, श्लोक 4

“कर्म करो, फल की इच्छा मत करो।” – भगवद गीता, अध्याय 2, श्लोक 47

“आपके द्वारा किए गए कर्म का फल आपके द्वारा नहीं मिलता, वह आपके द्वारा किए गए कर्मों का फल नहीं होता है।” – भगवद गीता, अध्याय 2, श्लोक 47

“अपने कर्मों को छोड़ कर, कर्मों के फल की आशा मत करो।” – भगवद गीता, अध्याय 2, श्लोक 51

“कर्म करते समय आपको फल की चिंता करने का अधिकार नहीं होता, अपने कर्मों को ईश्वर को अर्पित करो।” – भगवद गीता, अध्याय 2, श्लोक 47

“कर्म करो, फल की आशा मत करो, और भगवान के प्रति समर्पित रहो।” – भगवद गीता, अध्याय 9, श्लोक 27

“जो कुछ हो रहा है, वह ठीक हो रहा है; जो कुछ हुआ, वह ठीक हुआ; और जो कुछ होगा, वह भी ठीक होगा।” – भगवद गीता, अध्याय 2, श्लोक 14

“आपका अधिकार केवल कर्म करने का है, कर्मों के फल का नहीं।” – भगवद गीता, अध्याय 2, श्लोक 47

“कर्म करो, फल की इच्छा मत करो।” – भगवद गीता, अध्याय 2, श्लोक 47

“कर्म के द्वारा ही आप अपने उद्देश्य को प्राप्त कर सकते हैं।” – भगवद गीता, अध्याय 2, श्लोक 47

“जब तक आप कर्म करते हैं, आपको कर्म का फल का अधिकार नहीं होता।” – भगवद गीता, अध्याय 2, श्लोक 47

भगवद गीता एक कालातीत और श्रद्धेय ग्रंथ है जो लोगों को उनकी आध्यात्मिक यात्राओं के लिए प्रेरित और मार्गदर्शन करता रहता है। कर्म, धर्म और आध्यात्मिक प्राप्ति के विभिन्न मार्गों पर इसकी शिक्षाओं की सार्वभौमिक प्रासंगिकता है। चाहे कोई जीवन के मूलभूत प्रश्नों के उत्तर चाहता हो, स्वयं की प्रकृति के बारे में अंतर्दृष्टि चाहता हो, या आध्यात्मिक ज्ञान की इच्छा रखता हो, भगवद गीता गहन और स्थायी मार्गदर्शन प्रदान करती है। यह प्राचीन पाठ ज्ञान, चिंतन और सांत्वना का स्रोत बना हुआ है, और इसका ज्ञान समय और संस्कृति की सीमाओं को पार करता है, जिससे यह पूरी मानवता के लिए एक मूल्यवान खजाना बन जाता है।

quotes from bhagavad gita in hindi
Ashwini Timbadia

Ashwini Timbadia

Greetings, fellow travelers! I am Ashwini Timbadia, an avid explorer and founder of Timbadiainsights.com, a haven for wanderlust enthusiasts seeking inspiration and guidance. My passion for traversing the globe has led me on countless adventures, uncovering hidden gems and forging unforgettable memories. Through the pages of my blog, I aim to ignite your wanderlust and provide you with the tools to embark on your own journeys of discovery. Whether you're seeking recommendations for off-the-beaten-path destinations or tips for navigating the world with ease, I'm here to be your travel companion.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top